शेयर व्यापारी

शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें?

शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें?
एक बार जब इस कंपनी के शेयर का भाव काफी बढ़ जाता है, तो फिर आपके निवेश का लक्ष्य पूरा हो जाता है अब इस कंपनी में आपके बने रहने का कोई कारण नहीं है।

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए क्या करना होता है? 8 बुनियादी सवालों के जवाब

शेयर बाजार (Share Bazaar)

शेयर बाजार क्या है?
शेयर बाजार यानी इक्विटी मार्केट एक ऐसा प्लैटफॉर्म है, जो कंपनियों और निवेशकों को एक-दूसरे से जोड़ता है। कंपनियां पूंजी जुटाने के लिए शेयर बाजार में लिस्ट होती हैं। शेयर बाजार में लिस्टिंग के बाद निवेशक कंपनियों के शेयरों खरीदते -बेचते हैं।
बीएसई और एनएसई
भारत में दो बड़े शेयर बाजार हैं, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई और नैशनल स्टॉक एक्सचेंज यानी एनएसई। बीएसई एशिया का सबसे पुराना शेयर बाजार है। इसकी स्थापना 1895 में की गई थी। एनएसई भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा शेयर बाजार है।
सेंसेक्स और निफ्टी
सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी बीएसई का संवेदी सूचकांक है। सेंसेक्स में बीएसई की टॉप 30 कंपनियां शामिल की जाती हैं इसलिए इसे बीएसई 30 (BSE 30) भी कहते हैं। बाजार पूंजीकरण के हिसाब से सेंसेक्स में शामिल 30 कंपनियां बदलती रहती हैं।

शेयर कब खरीदे और कब बेचे

आप जिस Finance Company या bank से अपना डीमेट अकाउंट खुलबातें हैं वह आपको शेयर मार्केट के टर्मिनल पर शेयर को खरीदने और बेचने का एक सॉफ्टवेयर प्रोवाइड करते है जो की एक website या mobile app हो सकती है.

बस अब आपको उसमें जाना है और अपने डिमैट अकाउंट में पड़े पैसों की मदद से आप जिस भी कंपनी के शेयर को खरीदना चाहते हैं वह खरीद सकते हैं

जब आप terminal पर जाते हैं तो आपके पास सॉफ्टवेयर में ऑप्शन आता है. जहां पर आप किसी भी कंपनी के शेयर को सर्च कर सकते हैं. जैसे ही आप उस Share की Companyकंपनी पर जाते है तो आप उसी शेयर पर होने वाले शेयर के भाव में उतार और चढ़ाव को भी देख सकते हैं.

अगर आपने शेयर खरीदने का मन बना लिया है तो आप terminal पर शेयर को Buy करने का order लगा सकते है. जैसे ही शेयर मार्केट में आपके Buy order से किसी का sell order मैच होगा वैसे ही आपके पास आपके द्वारा buy किये गए शेयर आ जायेंगे और आपके अकाउंट में से पैसे कट जाएंगे.

शेयर खरीदने का समय

रोजाना शेयर मार्केट सुबह 9:15 AM पर खुलता है और 3:30 PM पर बंद होता है. अगर आप शेयर मार्केट के अंदर शेयर को खरीदना और बेचना चाहते है. तो आपको इसी समय के बीच में खरीदी और बेचने का काम करना होगा.

शेयर मार्केट में शेयर खरीदने और बेचने का एक निर्धारित समय होता है अगर आप शेयर मार्केट से शेयर को खरीदना या बेचना चाहते हैं तो आपको इस निर्धारित समय के बीच में ही सारे ट्रांजैक्शन करने होंगे अगर आप निर्धारित समय के बीच में ट्रांजैक्शन नहीं करते तो आपके ट्रांजैक्शन सक्सेसफुल नहीं होंगे

शेयर कैसे खरीदते है

Time needed: 7 minutes.

शेयर खरीदने के लिए आपको सबसे पहले यह तय करना होगा कि आप किस कंपनी के शेयर खरीदना चाहते हैं एक बार आपने यह तय कर लिया तो आपको शेयर खरीदने में बड़ी आसानी होगी. आप नीचे दी गई steps को follow करके शेयर खरीद सकते है.

शेयर कब खरीदे और कब बेचे और शेयर खरीदने के नियम

सबसे पहले अपने डिमैट अकाउंट को ओपन कर के टर्मिनल पर जाएं

अब आप जिस कंपनी के शेयर को खरीदना चाहते हैं उसका नाम लिखकर सर्च करें

जैसे ही आपको कंपनी का नाम मिल जाए तो उसको select करें

अब आप शेयर खरीदने से पहले उस company के शेयर की कीमत में हुए उतार-चढ़ाव देख ले इससे आपको पता चलेगा कि शेयर बाजार में इस शेयर की कीमत कितने रुपए ज्यादा हुई और कितने रुपए कम हुई.

शेयर कब खरीदे और कब बेचें

शेयर-कब-खरीदे-और-कब-बेचें

जब आपको भविष्य में अच्छा लाभ देने वाले किसी अच्छे शेयर की जानकारी हो जाती है तब सवाल ये आता है कि ऐसे शेयर को खरीदे कब ?

इस सवाल का जवाब देते हुए दुनिया के सबसे मशहूर इन्वेस्टर ‘वारेन बफेट’ ने कहा था कि जब मार्केट गिर रहा हो, टूट रहा हो और सब तरफ ‘बेच लो-बेच लो’ का हल्ला मचा हुआ हो तो वही सबसे सही समय होता है किसी शेयर को खरीदने का।

और जब बाजार में काफी तेजी चल रही हो मार्केट काफी बढ़ रहा हो सब तरफ ‘खरीद लो – खरीद लो’ का शोर सुनाई पड़ रहा हो तो वही किसी शेयर को बेचने का सबसे अच्छा समय होता है।

शेयर कब खरीदें और कब बेचें इसको एक उदाहरण से बहुत ही आसानी से समझ सकते हैं –

शेयर बाजार में आप किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं (मान लीजिए वह शेयर टाटा पावर है)। हम सबको पता है की आने वाले कुछ वर्षों में इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग काफी बढ़ने वाली है क्योंकि लोग पेट्रोल और डीजल वाहनों को छोड़ कर इलेक्ट्रिक वाहनों में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

शेयर बाजार में नुकसान से बचने के टिप्स

शेयर बाजार में निवेश करना और लाभ कमाना हर कोई चाहता है पर इसमें निवेश के नियमों और सावधानियों के बारे में सही जानकारी न होने के कारण अधिकांश या तो पैसे लगाते नहीं या लगाते भी हैं तो बहुत थोड़े वक्त के लिए. शेयर बाजार निवेशकों के लाभ कमाने की एक बहुत अच्छी जगह है पर निवेश करते हुए अगर कुछ सावधनियां अपनाई जाएं तो यह नुकसान के खतरे को दूर रखते हुए बहुत लाभकारी हो सकता है. यहां छोटे निवेशकों के लिए शेयर में निवेश के कुछ लाभकारी टिप्स दिए जा रहे हैं:

share

लंबे समय के लिए पैसे लगाना ज्यादा लाभकारी है: शेयर बाजार में निवेश करते हुए कई अक्सर छोटे निवेशक पैसे लगाते हुए बहुत घबराते हैं. उन्हें बाजार के उतार-चढ़ाव में पैसे डूब जाने का खतरा रहता है. ऐसे में वे अक्सर बहुत थोड़े समय के लिए पैसे लगाते हैं. कई छोटे निवेशक तो सुबह पैसे लगाते हैं और शाम को बेच देते हैं. यह गलत है. यह आपको बड़ा मुनाफा कमाने में सबसे बड़ा रोड़ा है. अधिकांश छोटे निवेशक सुबह में शेयर खरीदते हैं और शाम तक उसकी बढ़ी हुई कीमत का लाभ लेकर उसे बेच देते हैं. इस तरह आप अपने निवेश पर छोटा लाभ जरूर कमा सकते हैं पर बड़े लाभ के लिए आपको निवेश की अवधि लंबी करनी करनी होगी.

Read: डॉक्टर बनने शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? गई थी, मौत मिली

जब ट्रेडिंग के लिए प्रोफेशनल हायर करें: कई निवेशक जानकारी या समय के अभाव में ट्रेडिंग के प्रोफेशनल्स की सुविधा लेते हैं. बाजार में बहुतायत ऐसे शेयर प्रोफेशनल्स मिल जाएंगे जो आपके पैसों को सही जगह निवेश करने की सेवा देते हैं और उसके बदले आप उन्हें कुछ फीस देते हैं. पर कई मामलों में देखा जाता है कि शेयर प्रोफेशनल्स निवेशकों की जानकारी और जागरुकता के अभाव में फायदा उठाते हैं. निवेशकों का पैसा वे अपने फायदे के लिए कई जगहों पर लगा देते हैं. निवेशक को जहां 1 लाख का लाभ होता, वहां वे केवल 40 हजार का लाभ दिखा देते हैं. इसलिए बहुत जरूरी है कि ट्रेडिंग प्रोफेशनल्स को हायर कर आप निश्चिंत न हो जाएं. वे आपका पैसा कहां लगा रहे हैं, जिस कंपनी में आपका निवेश कर रहे हैं वह कंपनी कैसी है, बाजार में उसकी स्थिति कैसी है, बाजार के वर्तमान हालात क्या हैं यह सब पता करते रहें. इस तरह वे आपसे झूठ नहीं बोल पाएंगे.

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए क्या करना होता है? 8 बुनियादी सवालों के जवाब

किसी कंपनी को चलाने के लिए पूंजी यानी कैपिटल की जरूरत पड़ती है. अब कंपनी को चलाने के लिए मालिक बाजार से पैसा उठाना चाहता है तो वह कैपिटल को हिस्सों में बांट देता है यही हिस्से कहलाते हैं शेयर. जैसे किसी कंपनी की कैपिटल 100 शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? रुपये है. अब कंपनी इसे 100 हिस्सों में बांट दें तो वे 100 हिस्से शेयर्स कहलाएंगे और एक शेयर एक रुपये का होगा. अब इसी कैपिटल को दो या 5 हिस्सों में भी बांटा जा सकता है. यानी कंपनी शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? की एक यूनिट एक शेयर के बराबर होती है.

अब आप किसी कंपनी का हिस्सा बनना चाहते हैं तो उसके शेयर खरीद सकते हैं. इन्हीं शेयर्स की जब आप खरीदी बिक्री करने जिस बाजार में जाएंगे उसे कहते हैं शेयर बाजार.

शेयर खरीदने के लिए क्या करना होगा?

शेयर बाजार में पांव रखने से पहले आपको शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? चाहिए डिमैट अकाउंट. जैसे बैंक में बचत, एफडी में निवेश के लिए बैंक अकाउंट चाहिए वैसे ही शेयर मार्केट में निवेश के लिए डिमैट अकाउंट होना जरूरी है. डीमैट के जरिए ही शेयर्स को खरीदा-बेचा जाता है, होल्ड किया जाता है. यह एक तरह से शेयर्स का डिजिटल अकाउंट है.

डीमैट अकाउंट मतलब- डीमटेरियलाइज्ड यानी किसी भी फिजिकल चीज का डिजिटलाइज होना. डिमैट अकाउंट आप चंद सैकेंड में खोल सकते हैं. आधार कार्ड, पैन कार्ड जैसी केवाईसी डॉक्यूमेंट लगती हैं. इसके लिए ब्रोकर की जरूरत होती है. अब ब्रोकर कोई व्यक्ति भी हो सकता है और कंपनी भी. ब्रोकर की वेबसाइट या एप पर जाकर डिमैट अकाउंट आसानी से खोला जा सकता है. अगर आप नेटबैंकिंग करते हैं तो आपके बैंक की वेबसाइट या एप पर भी डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं. आमतौर पर इसकी लिए कोई फीस नहीं देनी होती लेकिन यह कंपनी पर निर्भर करता है कि वे डिमैट के लिए कितना वसूलना चाहते हैं.

किस कंपनी का शेयर खरीदें?

जवाब है किसी अच्छी कंपनी है, क्योंकि अच्छी कंपनी के शेयर्स अच्छा रिटर्न देते हैं. अच्छी कंपनी मतलब जिसका प्रॉफिट, प्रोडक्ट, भविष्य अच्छा हो. शेयर मार्केट की भाषा में इसे कंपनी के फंडामेंटल्स यानी बुनियादी बातें कहते हैं, कंपनी के फंडामेंटल्स अच्छे हैं तो कंपनी का भविष्य अच्छा माना जाता है. इसके लिए आपको कंपनी की सालाना बैलेंस शीट पर नजर रखनी होती है. यानी कंपनी कितना कमा रही है, कितना कर्ज है, कितना मुनाफा हो रहा है? कंपनी के शेयर्स ने पहले कैसा प्रदर्शन किया है. ये सब देखना होता है. कई बार खबरें भी कंपनी के शेयर्स को प्रभावित करती हैं. जैसे कि जब दुनिया के सबसे अमीर आदमी ईलॉन मस्क ने ट्विटर को खरीदने का ऐलान किया तो निवेशकों में ट्विटर के शेयर्स को खरीदने की होड़ लग गई. लेकिन निवेशक केवल कंपनी के फंडामेंटल्स पर ध्यान दें तो भी काम बन सकता है. सबसे पहले ऐसे शेयर में निवेश करें जो सुरक्षित हैं. यानी उन बड़ी कंपनियों के शेयर्स खरीदें जो दशकों पुरानी हैं, प्रॉफिट में रहती है और आगे भी रहेंगी. इससे आप नुकसान में नहीं रहेंगे. जब इसमें निवेश कर लें तो शेयर्स को स्टडी करना सीखें, कंपनी की बैलेंस शीट पढ़ना सीखें.

ट्रेडिंग या निवेश?

एक्सपर्ट कहते हैं कि 5 साल, 10 साल या उससे भी ज्यादा समय के लिए निवेश करने वाले फायदे में रहते हैं. यानी लॉन्ग टर्म इंवेस्टमेंट. अब शेयर बाजार को गहनता से समझने वाले और रिस्क उठा सकने वाले ही शॉर्ट टर्म या हर रोज शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं. कितना और कितने समय के लिए निवेश? अब सबसे पहले आप ये तय करें कि निवेश कितना करना है और कितने समय के लिए. फिर तय करें कि आप निवेश करना क्यों चाहते हैं यानी कि आपका उद्देश्य क्या है. जैसे, शिक्षा, शादी या घर खरीदने जैसे गोल्स. इसी अनुसार आप आगे बढ़ते हैं और तभी आप फैसला शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? ले पाएंगे कि आपको किस शेयर में निवेश करना है. शेयर मार्केट में शुरुआत धीमी रखें.

अगर आपके पास इन सब के लिए समय नहीं है या समझ नहीं है तो ऐसी स्थिति में आप किसी फाइनेंशियल एक्सपर्ट से ही सलाह लें, एक्सपर्ट को बताएं कि आप कितना खर्च करना चाहते हैं और कितने समय के लिए. आपका निवेश का उद्दश्य क्या है और आप निवेश से कितने रिटर्न की अपेक्षा रखते हैं. एक उपाय म्यूचुअल फंड भी हैं. जिसमें कुछ एक्सपर्ट आपके जैसे कई निवशकों के पैसे को कहां लगाना है ये तय करते हैं.

रेटिंग: 4.50
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 456
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *